उल्कापिंड तकरानेसे से बनी झील का पानी हुआ लाल, वैज्ञानिक भी हैरत में

उल्कापिंड तकरानेसे से बनी झील का पानी हुआ लाल, वैज्ञानिक भी हैरत में
उल्कापिंड तकरानेसे से बनी झील का पानी हुआ लाल, वैज्ञानिक भी हैरत में

बुलढाणा : महाराष्ट्र के बुलढाणा जिल्हे के लोनार झील के पानी का रंग बदल गया । आमतौर पर नीले और हीरे दिखने वाला पानी का रंग अचानक लाल हो गया है। इस अनोखे रंग ने आम आदमी को ही नही तो वैज्ञानिको को भी हैरत में डाल दिया है।

उल्का पिंड के टकराने से बनी झील
वैज्ञानिको‌ का मानना है कि,यह झील 35-50 वर्ष पहले उल्कापिंड के टकराने से हुई हैं। यह खारे पानी की झील है,ये गोलाकार है,इसका व्यास 1.2 किमी है। बताया जाता है कि , झील जो पिंड पृथ्वी से टकराया था, बताया जाता है कि ,उसका वजन करीब दस लाख टन रहा होगा।

जियोलॉजिस्ट और साइंटिस्ट हमेशा से ही इस झील पर संशोधन करते आये है। और बताया जाता है कि समय पर इस झील के पानी के रंग में बदलाव होते जा रहा है। पानी के रंग के बदलाव को लेकर वैज्ञानिको का अलग अलग मत है। कहा जा रहा है कि खारे पानी में हलोबक्टेरिया और दुओनीला फंगस के बढ़ जाने से कैरोटिनाइड नामक पिग्मेंट बढ़ जाता है, जिसके कारण पानी लाल हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here